प्रकृति

Nature

नियमों में बंधी प्रकृति की सुषमा जड़ नहीं है

तभी तो आकर्षक है

आवश्यकता है उसके आकर्षण को मन के नेत्रों से निहारने की

और उसकी सराहना करने की

क्योंकि प्रकृति हमें सिखाती है सकारात्मक भाव के साथ जीना

क्योंकि प्रकृति हमें सीख देती है समस्त मानवीय आदर्शों की

“कल” जो हो चुका और “कल” जो होगा

उसकी चिन्ता न करके, वर्तमान में जीने की

जीवन का समग्र रहस्य निहित है प्रकृति के दिव्य सौन्दर्य में

हम सभी प्रकृति के इस जीवन्त सौन्दर्य को सराहते हुए

इसमें खो जाएँ

और प्रसन्न रहें…

 

Spread the love